First National News

बिहार शिक्षक विरोध: शिक्षक अभ्यर्थियों के सड़क पर उतरने के बाद बैकफुट पर राजद, प्रदर्शनकारियों की मांगों को लेकर कही बड़ी बात

बिहार शिक्षक समाचार: शिक्षक भर्ती के मुद्दे पर मतदाताओं ने नीतीश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इस बीच शिक्षकों की याचिका को लेकर राजद ने शनिवार को बयान जारी किया.

By: Dheeraj kumar | Updated at : 02 Jul 2023 09:49 AM

पटना: आवास नीति के खिलाफ शनिवार को शिक्षकों ने पटना की सड़कों पर जोरदार प्रदर्शन (बिहार टीचर कैंडिडेट प्रोटेस्ट) किया. इसके साथ ही राजद कार्यालय के बाहर अभ्यर्थियों की कतार लग गयी. उधर, इस मुद्दे पर राजद प्रवक्ता शक्ति यादव ने शनिवार को कहा कि शिक्षक हमारे बच्चे हैं. वे जो कुछ भी मांगेंगे, विचारणीय सभी बातें स्वीकार कर ली जाएंगी। उसकी बात सुनी जायेगी. उन्हें यह कहने का अधिकार है कि वे क्या सोचते हैं। भाजपा शिक्षकों को गुमराह कर रही है। भाजपा उन्हें बिना नौकरी के नहीं छोड़ेगी। शिक्षकों की भर्ती के लिए कानून में कोई बदलाव नहीं किया गया है. भाजपा ने अराजकता फैलाकर शिक्षकों को भ्रमित किया है।

“‘पहले भी, अन्य राज्यों के आवेदक आवेदन करते थे और शिक्षक बन जाते थे।”

शक्ति यादव ने कहा कि बिहार में ये लोग दूसरे राज्यों में जाकर आवेदन करते हैं और शिक्षक बनते हैं. हम अन्य राज्यों के आवेदकों को बिहार में शिक्षक बनने की पेशकश करते हैं क्योंकि बड़ी संख्या में बिहारवासी दूसरे राज्यों में काम करते हैं। अगर हम बिहार राज्य के लोगों को नौकरी नहीं देंगे तो अन्य राज्य भी अपने राज्य में बिहार के लोगों को नौकरी देना बंद कर देंगे. दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों को बिहार में शिक्षक बनने का मौका इसी वजह से मिलता है.

See also  G20 Summit 2023 in hindi ( G20 सम्मेलन 2023)

शिक्षा उम्मीदवार ,सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरे

आपको बता दें कि बिहार सरकार ने शिक्षक भर्ती नियमावली में बदलाव किया है. अब बिहार में शिक्षक बनने के लिए आपको बिहारी होने की जरूरत नहीं है। विदेशी भी बन सकते हैं शिक्षक बिहार में शिक्षा साधक इसका विरोध कर रहे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि हमें हमारे अधिकारों और विशेषाधिकारों से वंचित किया जा रहा है. राजधानी पटना में आज हजारों शिक्षक अभ्यर्थियों ने प्रदर्शन किया.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *